Thursday, October 18, 2012

तालिबान ने किया इसलाम को शर्मिँदा


सलीम अख्तर सिद्दीकी 
भारतीय मुसलिम मलाला मामले पर चुप्पी क्यों साधे हुए हैं? किसी उलेमा का भी कोई बयान अब तक नहीं आया है। पिछले दिनों हुए कुछ इसलाम विरोधी मामलों पर मुखर रहा उर्दू मीडिया भी खामोश है।
किस्तान की 14 साल की मानवाधिकार कार्यकर्ता और लड़कियों में शिक्षा की अलख जगाने वाली मलाला यूसुफजई पर तालिबान ने जो गोली मारी है, वह मलाला के साथ ही इसलाम के बुनियादी उसूलों पर भी चली है। इसलाम लड़कियों को शिक्षा हासिल करने का अधिकार देता है, जिसे रोकना किसी भी सूरत जायज नहीं है। दूसरी बात यह कि अपने को इसलाम का अलंबरदार मानने वाले तालिबान ने किन इसलामी उसूलों के तहत एक मासूम बच्ची पर जानलेवा हमला किया है? मलाला 2009 से ही तालिबान की आंख का कांटा बनी हुई थी, जब से उसने तालिबान की शिक्षा विरोधी नीति का विरोध शुरू किया था। कट्टरपंथी ताकतें उन लोगों से हमेशा से ही डरती रही हैं, जो लोगों में जागरूकता लाने की कोशिश करते रहे हैं। ऐसा हर दौर में हुआ है, हालांकि तरीके बदलते रहे हैं।
मलाला के पक्ष में जिस तरह से पाकिस्तान का बच्चा-बच्चा उठ खड़ा हुआ है, उससे पता चलता है कि वे तालिबान के उस इसलाम से लोग कितना आजिज आ चुके हैं, जो कहीं से भी इसलाम का हिस्सा नहीं है, लेकिन वह हिंसा के बल पर उसे जबरदस्ती लोगों पर थोपना चाहते हैं। अच्छी बात यह है कि पाकिस्तान के 50 से ज्यादा मौलवियों ने तालिबान की गैरइसलामी हरकतों के खिलाफ फतवा जारी करके जारी अपनी जिम्मेदारी का सबूत दिया है। लेकिन बात इतनी भर नहीं है। अब दुनियाभर के इसलामी दानिश्वरों को यह तय करना पड़ेगा कि इसलाम को बदनाम करने वाली ताकतों से कैसे निपटा जाए। यह कहना गलत नहीं होगा कि इसलाम को बदनाम करने में कुछ गैरजिम्मेदार गैरमुसलिम ही नहीं, खुद मुसलमान भी आगे हैं। जब कोई इसलामी पवित्र स्थलों की गलत तस्वीर बनाकर सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर डालता है, तो उसके खिलाफ जबरदस्त हिंसक प्रदर्शन होता है। ष्ठ€ट्टइनोसेंस आॅफ मुसलिम्सष्ठ€ट्ठ के खिलाफ दुनियाभर के मुसलिम सड़कों पर उतर आते हैं और कई बेगुनाह लोगों की जान चली जाती हैं।
सबसे पहले तो यह कि जिस तल्ख तेवरों के साथ विरोध प्रदर्शन किया जाता है, क्या वह इसलामी तरीका है? हिंसक विरोध प्रदर्शन के दौरान किसी की जान चली जाए, क्या इसकी इसलाम इजाजत देता है? ऐसे वक्त में मुसलमान यह भूल जाते हैं कि इसलाम की रक्षा के नाम पर वह इसलाम का नुकसान ही कर रहे होते हैं। यह भी भूल जाते हैं कि कटाक्ष किया ही इसलिए जाता है, जिससे उनमें गुस्सा पनपे और वह सड़कों पर निकलें, जिससे उन्हें एक बार फिर कठघरे में खड़ा किया जा सके। इस तरह जाने-अनजाने साजिश का शिकार मुसलिम अपना ही नुकसान कर बैठते हैं। यह ठीक है कि जिस तरह इसलाम पर वार किए जा रहे हैं, वे असहनीय हैं, लेकिन यदि उनका शालीनता से जवाब दिया जाए और संयम रखा जाए तो यकीनन इसके अच्छे नतीजे सामने आएंगे। यदि ष्ठ€ट्टइनोसेंस आॅफ मुसलिम्सष्ठ€ट्ठ पर इतनी तल्ख प्रतिक्रिया नहीं आती, तो बहुत ज्यादा घटिया वह फिल्म कहीं कूड़े के ढेर पर पड़ी नजर आती। हजरत मोहम्मद साहब का चरित्र इतना ऊंचा है कि उसे कोईघटिया फिल्म दागदार कर भी नहीं सकती।
अब फिर मलाला पर आते हैं।उस पर किसी गैरजिम्मेदार गैरमुसलिम ने हमला नहीं किया है, मुसलमानों ने किया है। उलेमा मान चुके हैं कि हमला सरासर गैरइसलामी है। सवाल यह है कि जब खुद मुसलमान इसलाम की तौहीन करें, तो उसका विरोध शिद्दत के साथ क्यों नहीं होता? मलाला पर गोली इसलिए चली, क्योंकि वह इसलाम के बुनियादी उसूल, शिक्षा ग्रहण करने के लिए लड़कियों को जागरूक कर रही थी। वह धर्मनिरपेक्षता की हामी थी। धर्मनिरपेक्षता भी इसलाम का ही हिस्सा है। यह बात तालिबान को मंजूर नहीं थी। भारत की बात करें, तो जरा-जरा सी बात पर सड़कों पर निकल आने वाले मुसलिम मलाला मामले पर चुप्पी क्यों साधे हुए हैं? किसी उलेमा का भी इस संदर्भमें कोईबयान अब तक नहीं आया है। उदूर्मीडिया की भी यही हालत है। पिछले दिनों हुए कुछइसलाम विरोधी मामलों पर उदूर्मीडिया बहुत ज्यादा मुखर रहा था, लेकिन मलाला मामले पर उदासीनता बरतना समझ से परे है। क्या दुनियाभर में इसका यह संदेश नहीं जाएगा कि भारत के मुसलमान भी मलाला मामले में तालिबान के साथ खड़े हैं?
यही वक्त है, जब तालिबान जैसे इसलाम दुश्मनों के खिलाफ निर्णायक लड़ाईलड़ी जा सकती है। पाकिस्तान की अवाम मुखर है।इसमें भारत ही नहीं, दुनियाभर के मुसलमानों की आवाज भी शामिल हो जाए, तो अमेरिका द्वारा खड़े किए गए उस तालिबान की कमर तोड़ी जा सकती है, जिसने इसलाम की छवि धूमिल करने का ही काम किया है। तालिबान उन ताकतों का खिलौना है, जो इसलाम दुश्मनी में सबसे ज्यादा आगे रहती हैं। तालिबान की क्रूरता की ओर से आंखें मूंदने का मतलब अमेरिका की नीतियों का सर्मथन करने जैसा ही होगा। इस बात को वक्त रहते समझ लिया जाए, तो बेहतर होगा।
(लेखक जनवाणी से जुड़े हैं)

2 comments:

  1. उगती जब नागफनी दिल में, मरुभूमि बबूल समूल सँभाला ।
    बरसों बरसात नहीं पहुँची, धरती जलती अति दाहक ज्वाला ।
    उठती जब गर्म हवा तल से, दस मंजिल हो भरमात कराला ।
    पढ़ती तलिबान प्रशासन में, डरती लड़की नहिं वीर मलाला ।।

    ReplyDelete
  2. सिकंदर हयातOctober 24, 2012 at 12:23 AM

    असली समस्या कानून तोड़ने वाले तालिबान नहीं बल्कि ये लोग हे जो इन्हें सपोर्ट देते हे (मुह्जबानी ) ये लोग अपने बच्चो से कहते हे की पढो लिखो अमेरिका जाओ और गरीबो के बच्चो से कहते हे की अमेरिका के खिलाफ जिहाद करो पाकिस्तान के ओरिया मकबूल जन जेसे पढ़े लिखे अफसर लोगो की तालिबान समर्थक बाते सुनिए और मलाला केस पर शायद पाकिस्तानी जमाते इस्लामी के पर्मुख की बेटी की बात सुनिए इस विडियो में YOU TUBE टाइप
    Policy Matters - 12th October 2012 - Shahi Syed & Hassan Nisar
    और जेसा की मेने मोहल्ला लाइव पर लिखा था की सबसे बड़ी समस्या कानून तोड़ने वाले या आतंकवादी या कट्टर पांति ही नहीं हे बल्कि ये कुछ पढ़े लिखे ‘सोबर लोग भी हे भारत में ये कोन कोन हे में नाम नहीं लेना चाहूँगा आप खुद देखिये देश में भी और अपने आस पास भी देखिये समझिये कोन हे कहा कहा हे , और इनका कड़ा विरोध कीजिये वर्ना ये तबाही करवा देंगे .देखिये पाकिस्तान का ये पिशाच बुद्धिजीवी और रिटायर्ड अफसर हे ओरिया मकबूल जान वेसे तो एक चींटी भी खुद मारना ऐसे लोगो के बस की बात नहीं होती पर दूसरो के बच्चो को मरवाना इनके बाय हाथ का खेल होता हे – इस ओरिया मकबूल ने इस फिल्म विवाद पर टीवी बहस में लोगो को खूब भड़काया जाहिर हे फिर जब बवाल हुआ और 20- 25 लोग मारे गये तो फिर ये टीवी पर आकर इस घटना पर लगभग मुस्कुराते हुए किन्तु परन्तु करने लगा तब एक भले पाकिस्तानी पत्रकार ने इन लोगो से पूछा की न तो आपने खुद किसी प्रदर्शन की कयादत की न आगे आगे रहे न आप न आपके बच्चो ने गोली तो छोड़ो एक पत्थर तक नहीं खाया – ( विडियो you tube टाइप
    Policy Matters — 22nd Sept 2012 – Orya Maqbool Jaan, Saleem Safi & Zafar Halali विडियो 35:46 मिनट से देखिये ) वही बात जो में भी लगातार कह रहा हूँ की ये हमेशा चाहे कोई मसला हो ये हमेशा दूसरो के बच्चो को मरने के लिए आगे क्यों कर देते हे इन्ही ओरिया मकबूल जानो ज़ैद हमीदो हामिद गुलो के कुछ छोटे -मोटे संस्करण हम भारतीय मुस्लिमो के बीच भी मौजूद हे ये लोग हाफिज़ सईद जेसे आतंकवादियों से भी बड़े गुनाहगार यही लोग हे

    ReplyDelete